ग़ज़ल

उसे सूरज कहूँ या आफ़ताब रहने दूँ। उसे चंद्रमा कहूँ या माहताब रहने दूँ।। मज़हब देखकर आती नहीं तकलीफें किसी को। फिर उसे पीड़ा कहूँ या अजा़ब रहने दूँ।। मुफ़लिसी में जो हर कदम साथ चला मेरे। उसे मित्र कहूँ या अहबाब रहने दूँ।। कई मज़लूमों के खूं से वो सनी होगी। उसे धन कहूँ या असबाब रहने दूँ।। मुस्तक़बिल का डर तो हर माँ बाप को होता है। फिर उसे चिंता कहूँ या इज़्तिराब रहने दूँ।। गुलामी में हर दिल से जो आग निकलती है। उसे क्रांति कहूँ या इंकलाब रहने दूँ।। ये मज़हबी ज्ञान जहाँ से पाया उसने। उसे पुस्तक कहूँ या किताब रहने दूँ।। हिमांशु तेरे सवालों में जो कहा सबने। उसे उत्तर कहूँ या जबाब रहने

Read more

देशभक्त नेता बनना चाहते हो??

नमस्कार, अगर आप राजनीति .में रुचि रखते है और एक देशभक्त नेता बनना चाहते है तो बिल्कुल सही जगह पर आए है , आज हम सीखेंगे कैसे आप अपना नाम एक देशभक्त नेता में बेशुमार कर सकते है तो चलिए बिना किसी देरी के शुरू करते है देशभक्त नेता बनने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात जिसके बिना आप देशभक्त नेता बनने की सोच भी नहीं सकते वो है आपका या आपके घर में किसी का बाहुबली होना, अगर आप अपने क्षेत्र के बाहुबलियों में से हैं तो आपने देशभक्त नेता बनने का पहला पड़ाव पार कर लिया है, और अगर आप या आपके घर में कोई बाहुबली नहीं है तो भी चिंता की कोई बात नही, पता लगाइए अपने रिश्तेदारों

Read more

‛अपने अंदर के राम को जीवित करें’

हर बार की तरह इस बार भी दशहरा पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। रावण के बड़े-बड़े पुतले बनाए जा रहे हैं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मानों भारी-भरकम शरीर वाले रावण की मुखाकृति हम पर अट्ठाहास करती हुई कह रही हो, कि तुम सब मुझे अपने हृदय से नहीं निकाल पाओगे। मैं यूं ही हर वर्ष आऊंगा। हर वर्ष तुम मुझे जलाओगे। लेकिन मुझे मार नहीं पाओगे। अगली बार पुनः उसी सम्मान के साथ दोबारा खड़ा होकर हमारी नादानियों पर ठहाका लगाते हुए पूछेगा – मैं अधर्मी, अन्यायी, पथभ्रष्ट, राक्षस कुल का अवश्य हूं, पर मुझे मारने वाली लाखों-करोड़ों की भीड़ में क्या कोई राम है? या कोई ऐसा जिसमें राम जैसी शक्ति, सामर्थ्य

Read more

वे मजदूर

मुहल्ले के नुक्कड़ पर एक नीम का पेड़ था और उसके नीचे कूड़े का ढ़ेर…, पॉलीथिन की थैलियाँ, कागज के टुकड़े, सड़ी हुईं सब्जियाँ, रसोई के कचरे, जूठन, गोबर इत्यादि यत्र-तत्र फैले हुये थे, जिससे बदबू भरी हवा उठती रहती। दोपहर के बाद जब गर्मी बढ़ जाती तो बास मारने लगती थी। कभी-कभी समस्या गंभीर हो जाती तो आस-पास के घरवाले उस तरफ की खिड़की बन्द कर लेते थे। पास से गुजरनेवाले नाक पर रूमाल डाल लेते थे, यदि बहुत दिक्कत होती तो उधर से मुँह फेर लेते या रास्ता बदल लेते थे। कूड़े का कुछ हिस्सा उड़-उड़ कर नाली में जाने लगा और धीरे-धीरे नाली जाम हो गयी। पानी उछलकर सड़क पर बहने लगा था। कार सवार उधर से

Read more

सुपरस्टार

सीन गरमागरम था जाहिर है, गीत के बोल भी उत्तेजक थे धुन भी उसी के अनुरूप मादक और नशीली. बॉलीवुड के सुपरस्टार रौशन कुमार बारिश से अपादमस्तक भीगी हीरोइन की अनावृत्त कमर और गीली साड़ी में उभरे नितंब के बीच अपनी दोनों हथेलियों को टिकाए अपना चेहरा उसकी नाभि से रगड़ते हुए ऊपर की ओर ले जा रहा था. क्लोजअप में हीरोइन के लरजते होंठ दिखने लगे सुपरस्टार के फड़कते होंठ उससे जा मिले. इधर बारिश की फुहार, उधर चुंबनों की बौछार. फिल्म के प्रीमियर शो में रौशन कुमार की पत्नी और बॉलीवुड की ही प्रख्यात अभिनेत्री जयमाला भी मौजूद थीं. हॉट सीन उनकी आंखों में चुभ रहे थे. चेहरे पर किस्मकिस्म के भावों की आवाजाही जारी थी. फिल्म की

Read more