सशक्तिकरण का बीजारोपण

सशक्तिकरण का बीजारोपण ———————————- महिला दिवस से तात्पर्य ‘एक दिन महिलाओं का’ से कदापि नहीं है बल्कि ये महिलाओं में सशक्तिकरण का बीजारोपण, उनकी जाग्रति की कहानी का पहला स्तम्भ है। पराधीनता की मानसिकता से बाहर आकर स्वधिकार की चेतना का संचार करने वाला यही वह महत्वपूर्ण दिन है, जहाँ से महिला ने अपने पूर्वाग्रहों को पटखनी देकर उनसे छुटकारा पाने का अभूतपूर्व साहस किया था। बात सन 1908 न्यूयार्क शहर की है तब वहाँ महिलाओं पर अप्रत्यक्ष रुप से दबाव डाल कर उनकी शारीरिक क्षमताओं से ज्यादा कार्य करवाया जाता था और वेतन भी पुरुषों की तुलना में कम होता था। इसी बात से क्षुब्ध होकर महिलाओं ने विद्रोह की ठानी और उसे क्रियान्वित किया उस वक्त करीब पन्द्रह

Read more

चलूँ?

चलूँ? तुम मुझसे मिले हो आज जब मेरे किनारे खुरदरे हैं,जब मैं शायद जूझ रही हूँ, मेरी सतह ढूँढ रही हूँ.तुम्हें मेरा खुद से झगड़ना रास नहीं आता,मेरा लाइब्रेरी के कोने में अकेले बैठना नहीं भाता.मेरा सोच में डूबे रहना तुम्हें अखरता है,मेरी उड़ने की चाहत से भी शायद तुम्हारा मन बिखरता है.तुम चाहते हो मैं हर बात को ज़हन में दफना लूँ,झूठी हंसी-ठिठोली की दिखावट अपना लूँ..मगर कैसे?मैं आचरण पर बनावट का आवरण ओढ़ लूँ?खुद को छलूँ, अपने ही सच से मुँह मोड़ लूँ?मतभेद में जीने लगूँ, खुद से तार तोड़ लूँ?नहीं. मुझे अकेलेपन की आदत हो गई है.दुनियादारी अब मुझे समझ नहीं आ आती,भीड़ में मैं ज्यादा चल नहीं पाती.मैं बस अपने ही में खो कर रह लेती

Read more

प्रश्न-चिह्न

(1)नारी तुम हो क्या,महामाया या निर्भया ?कामाख्या,तो क्यों हो भोग्या ? शब्दों की पहेली कोउसने यूँ  देखा-और पल्लू के कोने कोऊँगली पे घुमाती चली गयी (2)हरेक पल्लू का कोनाआकृति बनाता  हैप्रश्न – चिन्ह जैसा जैसे पूछ रहा हो अनगिनत सवालउसके वज़ूद का उसके भी सवाल का उसके भी ख्याल का जिसे उसने उंगलियों से लपेट-लपेट करहिलते सरो सेकोशिश की थी बनाने की  ‘हाँ’ 

Read more

रजोनिवृत्ति की ओर…

लोग कहते हैं मुझे, कुछ अजीब सी हो गई हूँकुछ नहीं दोस्तों बस, थोड़ी मनमौजी सी हो गई हूँयाद है मुझे आज भी वो दिन भली-भांति,तेरे आगमन से शुरू हो गई थी,मेरे भीतर भी वो नारीत्व की एक कलाकृति कितना अटूट रिश्ता रहा हमारा,तक़रीबन तीस सालों काएक अभिन्न मित्र की तरह साथ निभाया तूने,बिना किसी इन्तज़ार के हर माह आकर  एक हलका-सा  दर्द की दस्तक भी दे देता था तू! अब  तुझसे विदाई का आ गया है समय,मेरे साथ खेल रहा है तू आंख-मिचौली मुझे खबर है और कुछ नहीं बस,छेड़ रहा है मुझे तू  कभी मेरी मनोदशा को झूला-झुलाकर तोकभी मुझमें बिजली की तरंगें पैदाकर,कभी सर्दी में गर्मी तो कभी गर्मी में सर्दी का एहसास दिलाकर,कभी मेरी त्वचा को एकदम खुश्क

Read more

आज़ादी

क्यूँ नहीं उड़ सकते हम अकेलेजब भी जहाँ जाना चाहेक्या कभी आएगा वो दिनजब बिन सोचे हम उड़ पाये ! सोचते है हम आज़ाद हैं सिर्फ मन का भ्रम है यहफिर क्यूँ अँधेरा होते हीभागते है अपने घोंसलो में ! क्यूँ उड़ना होता हैएक झुंड को साथ लेकर संगकहाँ है आज़ादी हमको कोई यह तो बतलाये ! कुछ तो ऐसा करो सब मिल करअकेले ही उड़ पायेक्यूँ नहीं ऐसी सजा मिलेहर शिकारी रावण कोकि कोई रावण ही ना बन पायेहमारे जंगल को स्वतंत्र कराओऔर हम को आज़ादी दिलवाओ !

Read more

एक मात्रा का बोझ

सिखाये गये उन्हें धीरे धीरे बढ़ाते हुए रोटी को पूरा गोल आकार देने के नियम भले ही मायने नहीं रखता रोटी का गोल होना पेट की आग के लिए पूरे चाँद में छिपा उसकी गोलाई का सिद्धांत बताया नहीं गया उन्हें कभी भी चारदीवारी के बाहर कदम रखने के नियमों की घुट्टी ख़ुराक दर ख़ुराक दी जाती रही उन्हें हर रोज़ देह में धसती आँखों को अपने नोंकदार नाखूनों से नोंच कर फेंकने की कला सिखाई नहीं गयी उन्हें कभी भी कर्तव्यों की वेदी में स्वाह होने की सारी विधाएं रच दी गयीं उनके मन मस्तिष्क की दीवारों पर कभी नहीं थमाया गया उन्हें अधिकारों का वो पन्ना जिससे सुलगती चिंगारी को दी जा सके दहकते अंगार में बदलने को

Read more

तम्मना

पंखो की उडान से सारा आसमा नाप लूं, तम्मना है आज मेरी फिर से जाग लूं | अंधियारा है घना, वजूद है छिप रहा, जुगनू बन कर आज मैं, रोशनी फैला दूं……. तम्मना है आज मेरी फिर से जाग लूं | चीख भी दब रही आज , पटाखे की आवाज में, लक्श्मी के दीपक की लौ बन, जहां ये जगमगा दूं….. तम्मना है आज मेरी फिर से जाग लूं | है बेटा कुल दीपक तो, बेटी भी ‘पूजा’ लायक है, बन काबिल जमाने की, सोच को संवार दूं…. तम्मना है आज मेरी फिर से जाग लूं |

Read more

अपने पराएं

पति की मृत्यु के बाद सुमित्रा को मजबूरन अपने पुत्र और पुत्रवधू के पास महानगर में आकर रहना पड़ रहा था । बहू ने यह जताने में कोई कसर नहीं छोड़ी कि सुमित्रा उसकी बसी-बसाई गृहस्थी में सेंध लगा रही थी। सुमित्रा को झुंझलाहट होने लगी थी बहू की रोक-टोक से ‘ इस बर्तन में छोंक क्यों लगा दिया ,इस बर्तन को गैस पर क्यों रखा ,तेल इतना क्यों डाल दिया….’ । पैंतीस साल से गृहस्थी संभाल रही थी ,आधी उम्र रसोई में बीत गयी और आज उससे आधी उम्र की लड़की ने उसकी कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लगा दिए।कहती हैं ” आप जरा सा काम करतीं हो सारी रसोई फैला कर रख देती हों ‌।इस से अच्छा मैं ही सुबह

Read more