चलो कुछ दीपक

चलो कुछ दीये,
उन मुंडेरों पे रख आयें,
जहां अंधेरा आज भी है,
थोड़ी रोशनी ले जायें
जो दिल उदास हैं सदियों से,
क्यों ना उनसे खुशी बांट आयें।
ज़िद करें बस अपने घर की रोशनी के लिए,
अरे! हम इतने स्वार्थी ना हो जायें
क्या मिला है इक्ट्ठा करके,
चलो बांटे, खुशियां ले आयें
बाहर का अंधेरा तो लाज़मी है,
चलो मन का अंधेरा मिटायें

चलो कुछ दीये,
उन मुंडेरों पे रख आयें…

…….गौतम

Share this...
Share on Facebook
Facebook

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *